ads

Style1

Style2

Style3[OneLeft]

Style3[OneRight]

Style4

Style5

वर्तमान में ज्ञात भौतिकता के रूप = अवयव, कण, पिंड, निकाय (बंद या खुला) और निर्देशित तंत्र (जड़त्वीय या अजड़त्वीय), भौतिकता के किसी भी रूप की समानता, आधारभूत ब्रह्माण्ड की संरचना के साथ नहीं की जा सकती। फिर चाहे भौतिकता के किसी भी रूप के गुण, उस संरचना से ही क्यों ना मिलते हों। कहने का तात्पर्य आधारभूत ब्रह्माण्ड को ना ही कण कहा जा सकता है और ना ही एक बड़ा पिंड… वहीं आधारभूत ब्रह्माण्ड को ना ही एक निकाय कहा जा सकता है और ना ही एक निर्देशित तंत्र कहा जा सकता है। यदि आधारभूत ब्रह्माण्ड की संरचना को एक जड़त्वीय निर्देशित तंत्र मान लिया जाए। तो हमें पता चलता है कि विशिष्ट संरचना के द्वारा अजड़त्वीय निर्देशित तंत्र के गुण भी दर्शाए जाते हैं। वहीं बंद निकाय मानने पर हमें पता चलता है कि संरचना के द्वारा खुले निकाय के गुण भी दर्शाए जाते हैं। वास्तव में भौतिकता के सभी रूपों का विश्लेषण आधारभूत ब्रह्माण्ड के द्वारा ही होता है। यही भ्रम का कारण बन जाता है।

टीप :
(१) दिखलाई गई संरचना, आधारभूत ब्रह्माण्ड की संरचना नहीं है। अपितु यह ३- आयामिक संरचना के लिए ४- आयामिक संरचना का निरूपण है।
(२) भौतिकता के सभी रूप भिन्न-भिन्न प्रकार से परिभाषित होते हैं। उनको एक मान लेना, हमारी गलती होगी।

आधारभूत ब्रह्माण्ड के बारे में

आधारभूत ब्रह्माण्ड, एक ढांचा / तंत्र है। जिसमें आयामिक द्रव्य की रचनाएँ हुईं। इन द्रव्य की इकाइयों द्वारा ब्रह्माण्ड का निर्माण हुआ। आधारभूत ब्रह्माण्ड के जितने हिस्से में भौतिकता के गुण देखने को मिलते हैं। उसे ब्रह्माण्ड कह दिया जाता है। बांकी हिस्से के कारण ही ब्रह्माण्ड में भौतिकता के गुण पाए जाते हैं। वास्तव में आधारभूत ब्रह्माण्ड, ब्रह्माण्ड का गणितीय भौतिक स्वरुप है।
«
अगला लेख
नई पोस्ट
»
पिछला लेख
पुरानी पोस्ट
  • 0Blogger
  • Facebook
  • Disqus
comments powered by Disqus

शीर्ष