ads

Style1

Style2

Style3[OneLeft]

Style3[OneRight]

Style4

Style5

यह लेख विज्ञान से पूर्णतः सम्बंधित नही है। किन्तु हमारे द्वारा "महा-एकीकृत वर्गीकरण" के विश्लेषण के रूप में आठ बिन्दुओं के एकीकरण होने के दावे को बतलाया जाना है। जिसमें से आठवां एकीकरण "अवधारणाओं का एकीकरण" है। जिसके अनुसार सभी अवधारणाएँ चार बिन्दुओं में से एक बिंदु पर आकर केन्द्रित हो जाती हैं। जिसमें से पहला बिंदु "ब्रह्माण्ड का रचित" होना है। दूसरा बिंदु "ब्रह्माण्ड का निर्मित" होना है। तीसरा बिंदु "ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति" है। और चौथा बिंदु "ब्रह्माण्ड का पैदा" होना है। इसलिए इस विषय पर चर्चा किया जाना जरुरी था। चर्चा को वैज्ञानिक तरीके से आंगे बढ़ाने का प्रयास है। और तब प्रश्न उठता है कि क्या ब्रह्माण्ड की रचना ईश्वर ने ही की है ??

कुछ लोगों का मानना है कि हाँ, ब्रह्माण्ड की रचना ईश्वर ने ही की है। परन्तु कुछ लोगों का मानना है कि नहीं, ब्रह्माण्ड की रचना ईश्वर ने नही की। हमारे और आपके मानने से ईश्वर, ब्रह्माण्ड की रचना नहीं कर देता। तो फिर हम यह कैसे जाने कि ब्रह्माण्ड की रचना किसने की है ? पहले तो हमें यह जानना होगा कि ईश्वर है भी या नहीं ? दूसरी बात ईश्वर (यानि कि वह किससे बना है) कौन है ? और तीसरा और अंतिम प्रश्न ईश्वर क्या करता है या कर सकता है ? आप इस बात को आसानी से समझ सकते हैं कि अंतिम दोनों प्रश्न पहले प्रश्न पर आधारित हैं। यदि ईश्वर का अस्तित्व हुआ तो…


पहला प्रश्न है कि ईश्वर का अस्तित्व है भी या नहीं। तो हम आपको यह बतलाना चाहते हैं कि ईश्वर के अस्तित्व को हस्तक्षेप के रूप में देखा जाता है। आप किसी भी तरह से सोच लें, किसी भी व्यक्ति का उदाहरण लेकर उसके द्वारा ईश्वर को परिभाषित करने के आधार को देख लेवें। आप यह स्पष्ट रूप से समझ पाएंगे कि ईश्वर को हस्तक्षेप के आधार पर ही तौला जाता है। यानि कि उसके पास अपार शक्ति है या फिर वही शक्ति है। जैसा भी हो पर यह तय है कि वह सब कुछ कर सकता है या सिर्फ परिवर्तन कर सकता है। यदि वह अस्तित्व रखता है तो…  हमें नहीं लगता कि ईश्वर को सिर्फ परिभाषित करने से हम यह जान पाएंगे कि ईश्वर अस्तित्व रखता है या नहीं।

दूसरा प्रश्न यह कहता है कि ईश्वर कौन है ? आइये पहले हम ब्रह्माण्ड की रचना से जुड़े पहलुओं पर नज़र डालते हैं। ब्रह्माण्ड बनाने का अब तक का एक मात्र तरीका ब्लैक होल है। इस प्रक्रिया से ब्रह्माण्ड को तीन स्तर तक के लिए डिजाईन किया जा सकता है। पहला, भौतिकी के नियमों में बिना छेड़छाड़ किये ब्लैक होल द्वारा ब्रह्माण्ड का निर्माण करना। दूसरा, शिशु ब्रह्माण्ड की खासियतों को कोई नई दिशा देकर मनचाहे ब्रह्माण्ड को पाना। इसके लिए मूल ब्रह्माण्ड (शिशु रूप) में गुरुत्वाकर्षण बल का मान अपेक्षाकृत अधिक कर दिया जाता है। और तीसरा, पूर्व से ही खासियतों को निर्धारित कर निर्मित ब्रह्माण्ड में निर्देशित खासियतों को पाना। यानि कि भौतिकी के नियमों के साथ खेलकर दोषहीन ब्रह्माण्ड की रचना करना। हालाँकि इन तीनों स्तरों पर ब्रह्माण्ड के अस्तित्व में आने के बाद उसमें छेड़छाड़ नहीं की जा सकती। अस्तित्व में आने के बाद ये ब्रह्माण्ड स्वयं ही विकास करेंगे। ठीक वैंसे ही जैसे मानव जाति अभी तक करते आई है। हमें यह समझना होगा कि तीनों स्तरों की प्रक्रिया और उसकी प्रमुख शर्त ब्रह्माण्ड के अस्तित्व में आने के बाद उसमें छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है, ब्रह्माण्ड की रचना पर आधारित अवधारणा नहीं है।

तीसरा और अंतिम प्रश्न यह कहता है कि ईश्वर क्या करता है या कर सकता है ? अभी तक के दोनों प्रश्नों की चर्चाओं में कुछ भी स्पष्ट नहीं हो पाया है। परन्तु ईश्वर से सम्बंधित कुछ शर्तों को समझने में आसानी हुई है। जैसे कि यदि ईश्वर का अस्तित्व है तो वह भौतिकी का हिस्सा है। और यदि ईश्वर भौतिकी का हिस्सा नहीं है तो उसका अस्तित्व भी नही है। क्योंकि तब हम उसको प्रमाणित नहीं कर सकते। यानि कि भौतिकी के नियम ईश्वर के लिए भी हैं। और वह उन नियमों का पालन भी करता है। हम नास्तिक, ईश्वर को अपेक्षाकृत अधिक पूजनीय मानते हैं यदि ईश्वर अस्तित्व रखता है तो…  क्योंकि वह ब्रह्माण्ड में हस्तक्षेप नहीं करता। भले ही वह कर सकता हो… और यदि वह ब्रह्माण्ड में हस्तक्षेप करता है तो वह अवश्य ही कोई उन्नत प्रजाति होगी न की एक ईश्वर।

टीप : ब्रह्माण्ड को निर्मित करने के स्तर की जानकारी "द ग्रैंड डिजाईन" नामक पुस्तक के प्रकाशन पर न्यूज़ पेपर में छपे लेख से प्राप्त हुई है।

आधारभूत ब्रह्माण्ड के बारे में

आधारभूत ब्रह्माण्ड, एक ढांचा / तंत्र है। जिसमें आयामिक द्रव्य की रचनाएँ हुईं। इन द्रव्य की इकाइयों द्वारा ब्रह्माण्ड का निर्माण हुआ। आधारभूत ब्रह्माण्ड के जितने हिस्से में भौतिकता के गुण देखने को मिलते हैं। उसे ब्रह्माण्ड कह दिया जाता है। बांकी हिस्से के कारण ही ब्रह्माण्ड में भौतिकता के गुण पाए जाते हैं। वास्तव में आधारभूत ब्रह्माण्ड, ब्रह्माण्ड का गणितीय भौतिक स्वरुप है।
«
अगला लेख
नई पोस्ट
»
पिछला लेख
पुरानी पोस्ट
  • 1Blogger
  • Facebook
  • Disqus

1 Comment

  1. मानव से देव और नर से नारायण कैसे बना जाता है इसके लिए भगवान् श्रीकृष्ण के जीवन को समझना होगा।

    उत्तर देंहटाएं

comments powered by Disqus

शीर्ष