ads

Style1

Style2

Style3[OneLeft]

Style3[OneRight]

Style4

Style5

महा-मंदाकिनी “फ़ीनिक्स”

अब तक की सबसे विशाल मंदाकिनी “फ़ीनिक्स” को खोज लिया गया है। यह हमारी पृथ्वी से 5.7 अरब प्रकाश वर्ष की अनुमानित दूर पर स्थित है। इस मंदाकिनी का नाम “फ़ीनिक्स” न केवल इसकी स्थिरता (स्थिति) को देखकर रखा गया है। बल्कि यह मरकर पुनः जीवित होने वाले पौराणिक पक्षी के समान, गुणों को दर्शाती है। इस मंदाकिनी में प्रतिवर्ष 740 (अनुमानित) तारों का जन्म होता है। “फ़ीनिक्स” मंदाकिनी लगभग एक दिन में दो तारों को उत्पन्न करती है। जबकि हमारी आकाशगंगा एक वर्ष में औसतन 1 से 2 तारों को ही जन्म देती है। ऐसा मालूम होता है कि “फ़ीनिक्स” मंदाकिनी कभी भी नष्ट नहीं होगी ! “फ़ीनिक्स” मंदाकिनी द्वारा तारों को जन्म देने की यह अभूतपूर्व दर अन्य मंदाकिनियों की तुलना में 5 गुना से अधिक है। और यह मंदाकिनी फ़ीनिक्स नक्षत्र में स्थित है। यह “फ़ीनिक्स” मंदाकिनी के नामकरण का एक कारण है। 740 तारों को प्रतिवर्ष जन्म देने वाली मंदाकिनी को मंदाकिनियों की माँ भी कहा गया है।

चित्र में : गुच्छे के मध्य में तारों को जन्म देने वाली असाधारण घटना घटित हो रही है।
अमेरिका के राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन द्वारा वित्त पोषित खगोलविदों द्वारा दक्षिण ध्रुव में स्थित टेलीस्कोप का उपयोग करके “फ़ीनिक्स” मंदाकिनी को 2010 में ही खोज निकला गया। परन्तु इसकी विस्तृत जानकारी के साथ औपचारिक घोषणा 15 अगस्त 2012 को की गई। शोधकर्ताओं के अनुसार इसके केंद्र में विशालकाय तारों का जन्म होता है। शोधकर्ताओं ने जब फ़ीनिक्स मंदाकिनी से आने वाली क्ष-किरणों (X-ray), दृश्य प्रकाश किरणों, पराबैगनी प्रकाश किरणों और अवरक्त प्रकाश किरणों का बीते वर्षों में अनुसरण करके मापन किया। तब जाकर फ़ीनिक्स मंदाकिनी में जन्म लेने वाले तारों की दर ज्ञात हो पाई। और फ़ीनिक्स मंदाकिनी के गठन का पता चल पाया। हमारी आकाशगंगा (200 अरब तारे) की तुलना में “फ़ीनिक्स” मंदाकिनी में 3 खरब तारे हैं। और वहीं “फ़ीनिक्स” मंदाकिनी के केंद्र का द्रव्यमान हमारी आकाशगंगा के केंद्र (4 लाख सौर द्रव्यमान) की तुलना में अनुमानित 10 अरब सौर द्रव्यमान है। यह स्वाभाविक रूप से महा- मंदाकिनी फ़ीनिक्स है। जिसकी जानकारी नासा के चन्द्र दूरदर्शी द्वारा प्राप्त हुई है।

केंद्रीय आकाशगंगा
माइक्रो किरण (नारंगी), दृश्य प्रकाश किरण (लाल, हरा, नीला)
और पराबैंगनी किरण (नीला) द्वारा
"फ़ीनिक्स" मंदाकिनी की छवि को दिखलाया गया है।
स्रोत : नासा

विज्ञान में दर्शन का महत्व

जिसने दर्शन को समझा ही नहीं वो विज्ञान को कैसे जान सकता है ! इसके बाबजूद यदि वो ऐसा सोचता है कि वह विज्ञान को समझता है। तो उसका ऐसा सोचना गलत है। दरअसल वह विज्ञान को समझता नहीं है वह केवल वैज्ञानिक तथ्यों और वैज्ञानिक जानकारियों से भलीभांति परिचित है। यहाँ पर वास्तविकता इससे बढ़कर और कुछ नहीं है।
दर्शन यह तय करने में सहय़ोग प्रदान करता है कि क्या-क्या वास्तविक या विज्ञान हो सकता है। यह प्रक्रिया पूर्णतः सम्भावना पर टिकी होती है। बिलकुल दर्शन द्वारा तय हो जाने के बाद भी यह जरुरी नहीं है कि आगें चलकर कोई सिद्धांत या नियम प्रमाणित होकर विज्ञान कहलाए। परन्तु इतना जरुर तय है कि बिना दर्शन के तय किये गए नियम या सिद्धांत कभी भी प्रमाणित नहीं हो सकते। क्योंकि ब्रह्माण्ड में असंगत परिस्थितियों का अस्तित्व सम्भव नहीं है। और वैंसे भी दर्शन यही तो करता है असंगत और संगत परिस्थितियों में भेद उत्पन्न करता है। दर्शन, विज्ञान का पैर है। इसके बिना विज्ञान एक कदम भी नहीं चल सकता।
विज्ञान में दर्शन का महत्व
  1. कूटकरण सिद्धांत के अनुसार किसी भी नियम या सिद्धांत को सहमति और अवलोकन के आधार पर सिद्ध नहीं किया जा सकता। परन्तु अवलोकन के आधार पर बनी असहमति के द्वारा अमान्य घोषित जरुर किया जा सकता है।
  2. हम किसी भी विषय के अध्ययन की शुरुआत मान्य तथ्यों (माना) से करते हैं। और आगें चलकर सभी सम्भावित परिस्थितियों की व्याख्या करते हैं। इस तरह मान्य तथ्यों के गलत हो जाने पर भी एकत्रित किये गए आंकड़े, की गई भविष्यवाणियाँ अथवा निर्मित तथ्य गलत नहीं कहलाते। क्योंकि ये सभी संगत परिस्थितियों की देन होते हैं।
  3. दर्शन द्वारा सभी संभावनाओं और उसकी संगत परिस्थितियों का अध्ययन किया जाता है।
  4. दर्शन किसी भी सम्भावित सिद्धांत या नियम को गलत सिद्ध नहीं करता। बल्कि शर्तों की व्यापकता के आधार पर सम्भावित सिद्धांत या नियम की सत्यता की संभावना को और अधिक बढ़ा देता है।
  5. विज्ञान किसी एक प्रक्रिया का नाम नहीं है। जहाँ एक अवधारणा को प्रमाण की आवश्यकता होती है। तो वहीं एक प्रयोग को सिद्धांत की आवश्यकता होती है। ताकि यह जांचा जा सके कि कहीं प्रायोगिक त्रुटि न हुई हो।
  6. विज्ञान किसी भी ऐसी प्रक्रिया, नियम, अवधारणा, सिद्धांत अथवा परिभाषा को मान्यता नहीं देता है। जिस पर मान्यता देने के बाद दो बारा प्रश्न न उठाए जा सकें। क्योंकि ऐसा करने से विज्ञान बिना पैरों का हो जाता है और उसका विकास रुक जाता है। इसके लिए विज्ञान, दर्शन का सहारा लेता है और संगत परिस्थितियों का विश्लेषण करता है।
  7. जहाँ गणित, विज्ञान के आकार और स्वरुप को निश्चित करने का प्रयास करता है। वहीं दर्शन प्रश्नों के द्वारा विज्ञान को उन्नति की ओर ले जा लेता है। क्योंकि दर्शन के प्रश्न कभी समाप्त नहीं होते।

शीर्ष