ads

Style1

Style2

Style3[OneLeft]

Style3[OneRight]

Style4

Style5

इंतजार रहता है हमें
घटनाओं के घटित होने का
मन में प्रश्नों के उठने का
आंकड़ों के इकट्टे होने का
परीक्षण के पूरे होने का
मापन के परिणाम का
ताकि निकल सके
कुछ तार्किक निष्कर्ष
और हो सके भविष्यवाणियाँ
विज्ञान समाज से साझा करता
ज्ञान, विधि और तकनीकियाँ

मनुष्य नहीं रचता विज्ञान को
प्रकृति निर्णायक होती है
घटनाओं की पुनरावृत्ति से
आंकड़ों के चित्राम से
परीक्षण की सफलता से
मापन के उद्देश्य से
विधियों के सहयोग से
सिद्ध होते हैं सारे निष्कर्ष
जिन पर आधारित थी भविष्यवाणियाँ
जिनको परखते अनेक विधियों से
ताकि रच सकें कुछ युक्तियाँ


विज्ञान खोज की एक पद्धति
सिद्धांतों, नियमों और तथ्यों की
वैकल्पिक साधनों और युक्तियों की
ज्ञात से अज्ञात को जानने की
समस्याओं के समाधान की
कारण-घटना के अंतर्सबंधों की
संचयशीलता है जिसकी प्रकृति
जो कहती खोज की कहानियाँ
विज्ञान का हम यूँ उपयोग करते
जिससे निर्मित होती तकनीकियाँ

आधारभूत ब्रह्माण्ड के बारे में

आधारभूत ब्रह्माण्ड, एक ढांचा / तंत्र है। जिसमें आयामिक द्रव्य की रचनाएँ हुईं। इन द्रव्य की इकाइयों द्वारा ब्रह्माण्ड का निर्माण हुआ। आधारभूत ब्रह्माण्ड के जितने हिस्से में भौतिकता के गुण देखने को मिलते हैं। उसे ब्रह्माण्ड कह दिया जाता है। बांकी हिस्से के कारण ही ब्रह्माण्ड में भौतिकता के गुण पाए जाते हैं। वास्तव में आधारभूत ब्रह्माण्ड, ब्रह्माण्ड का गणितीय भौतिक स्वरुप है।
«
अगला लेख
पटल पर शीघ्र ही प्रकाशित होगा।
»
पिछला लेख
पुरानी पोस्ट
  • 3Blogger
  • Facebook
  • Disqus

3 Comments

comments powered by Disqus

शीर्ष